नीलकंठ

कैलाश की चोटी पर घर मैंने बनाया है. दूर तेरे दर से प्रेतों को बसाया है. जो तुझको सताते थे, दिन रात डराते थे, उन […]